उत्तर प्रदेश इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन में आपका स्वागत है

मार्च 1992 में, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन (यू.पी.आई.डी), अहमदाबाद ने एक विस्तृत रिपोर्ट उत्तर प्रदेश सरकार को प्रस्तुत की जिसमें उत्तर प्रदेश में एक डिज़ाइन इंस्टीट्यूट के स्थापना की बात प्रस्तावित की गई। रिपोर्ट के अनुसार उत्तर प्रदेश में एक ऐसा इंस्टीट्यूट स्थापित करने की जरुरत है जो राज्य के अनोखे शिल्प उद्योग की ताकत को प्रदर्शित कर पाए तथा छात्रों के लिए ऐसे नवीन शैक्षिक कार्यक्रम प्रदान करे जो राज्य के शिल्प समुदायों के विकास का सही ढंग से नेतृत्व कर सके। रिपोर्ट में एक ऐसा संस्थान परिकल्पित था जो शिल्पकारों और कारीगरों के प्रशिक्षण में अहम भूमिका निभाए तथा शिल्प और कुटीर उद्योग के क्षेत्र में काम कर रहे शिल्पकारों को डिज़ाइन और तकनीकी सहायता प्रदान कर पाए। यह रिपोर्ट यह सलाह देती है कि उत्तर प्रदेश में शिल्प कला की मांग को पूरा करने के लिए स्थानीय प्रतिभाओं का प्रोत्साहन तथा इस्तेमाल जरुरी है। यू.पी.आई.डी ने एक ऐसे शैक्षिक संस्थान की सलाह दी जो राज्य में डिज़ाइन के विकास एवं शिल्प के पुन: जीवित कार्य में उत्प्रेरक बन सके। यह सलाह एन. आई. डी के स्वयं के अनुभवों के आधार पर उत्पन्न हुई थी जो इसे शैक्षिक और आउटरीच कार्यक्रमों के माध्यम से शिल्प समूहों के साथ काम करते हुए एवं बदलते सामाजिक आर्थिक मानदंड के बीच उत्तर प्रदेश के शिल्प क्षेत्र की वास्तविकताओं को महसूस करने से प्राप्त हुई थी।

यू.पी.आई.डी की सिफारिशों के आधार पर उत्तर प्रदेश सरकार ने वर्ष 2003 में उत्तर प्रदेश इंस्टीट्यूट ऑफ़ डिज़ाइन की स्थापना एक स्वायत्त संस्थान के रूप में की जो भारतीय सोसाइटी एक्ट , 1860 के तहत पंजीकृत है। यह संस्थान शिल्प डिजाइन शिक्षा में विभिन्न प्रमाण पत्र / डिप्लोमा पाठ्यक्रम प्रदान करने के उद्देश से स्थापित किया गया है।

और पढ़ें
माननीय मुख्यमंत्री
श्री योगी आदित्यनाथ माननीय मुख्यमंत्री
उत्तर प्रदेश
माननीय मंत्री
श्री सिद्धार्थ नाथ सिंहमाननीय मंत्री
सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम एवं निर्यात प्रोत्साहन विभाग, उत्तर प्रदेश
माननीय अध्यक्ष

सुश्री शिप्रा शुक्ला

माननीय अध्यक्ष
उत्तर प्रदेश इंस्टीट्यूटऑफ डिज़ाइन

मुख्य सचिव

श्री राजेन्द्र कुमार तिवारी, आईएएस

मुख्य सचिव
उत्तर प्रदेश

प्रमुख सचिव

श्री नवनीत सहगल, आईएएस

प्रमुख सचिव
एमoएसoएमoईo विभाग, उत्तर प्रदेश

निदेशक

श्री अमित कुमार सिंह, आईएएस

निदेशक
यूoपीoआईoडीo, उत्तर प्रदेश

नवीन सूचनाएं / कार्यक्रम

और पढ़ें

फैशन फोरकास्ट

  • Latest Fashion Trends

    भारतीय उपभोक्ताओं और उनकी परिधान प्राथमिकताएं धीरे-धीरे बदल रही हैं, जिसके परिणामस्वरूप परिधान व्यवसाय का आकार को बदल रहा है।

उपलब्धियां

Achievements
  • सीएम के विकास कार्यक्रमों में मिली प्राथमिकता
  • बजट सत्र 2016-17 में बना नया बजट प्रावधान.
  • नए परिसर के लिए जमीन नियुक्त
  • संस्था के संचालन को शुरू करने के लिए 17 पद सृजित किये गए हैं।.
और पढ़ें

ऑनलाइन पंजीकरण

ऑनलाइन इम्पैनलमेंट

  • इम्पैनल्ड डिजाइनरों की सूची-2019अधिक विवरण
  • इम्पैनल्ड डिजाइनरों की सूची-2018अधिक विवरण
  • डिजाइनरों के इम्पैनलमेंट के लिए आवेदन आमंत्रित किये जाते हैं अधिक विवरण
  • उत्पादन के इम्पैनलमेंट के लिए आवेदन आमंत्रित किये जाते हैं अधिक विवरण
  • आर्टिसन / वीवर्स के इम्पैनलमेंट के लिए आवेदन आमंत्रित किये जाते हैं अधिक विवरण

भर्ती हेतु सूचना

  • विषयवस्तु शीघ्र उपलब्ध होगी।

पाठ्यक्रम

  • news

    उत्तर प्रदेश इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन के अंतर्गत निम्न पाठ्यक्रमों का संचालन किया जा रहा है:
    सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम
    डिप्लोमा पाठ्यक्रम
    पीजी डिप्लोमा पाठ्यक्रम

    अधिक देखने के लिए यहां क्लिक करें

अनुसंधान

  • news

    उत्तर प्रदेश इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन के अंतर्गत निम्न पाठ्यक्रमों का संचालन किया जा रहा है:
    सर्टिफिकेट पाठ्यक्रम
    डिप्लोमा पाठ्यक्रम
    पीजी डिप्लोमा पाठ्यक्रम

    अधिक देखने के लिए यहां क्लिक करें

संस्थान द्वारा चलाये जा रहे कार्यक्रम

PGP

सर्टिफिकेट कोर्स विस्तार से देखें

उत्तर प्रदेश के विविधतापूर्ण शिल्प के क्षेत्र में विभिन्न प्रकार की डिज़ाइन की अत्यधिक मांग रहती है। शिल्प के व्यापक विकास के लिए यू पी आई डी द्वारा इस क्षेत्र में कई स्वरूपों में हितधारकों के साथ तालमेल बनाना आवश्यक होगा।

PGP

डिप्लोमा कोर्स

किसी भी नए उत्पाद की नई रेंज विकसित करने में कई बिन्दुओं को ध्यान में रखा जाता है और इनमें बाजार की मांग के पहलुओं को समझना तथा किसी डिजाइन का प्रासंगिक उपयोग आज बहुत महत्वपूर्ण हो गया है।

PGP

पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स

हस्तशिल्प उद्योग की प्रकृति मूलतः उद्यमशील है। अपने उत्थान के समय में हस्तशिल्प समुदाय और शिल्पकारों की उद्यमशीलता कौशल के कारण इसमें बहुत विस्तार हुआ था। .

PGP

क्राफ्ट बाजार, सेमिनार एवं कार्यशालाएं

इच्छुक संगठन जो इस में हिस्सा लेना चाहते हैं, वे परियोजना निदेशक को प्रस्ताव भेज सकते हैं।

यूपीआईडी कैंप कार्यालय

यूपीआईडी प्रस्तावित भवन